December 1, 2022
UK 360 News
राष्ट्रीय

भारतीय रेलवे के लिए एलएचबी व्हील्स की पहली खेप रायबरेली में आरआईएनएल के फोर्ज्ड व्हील प्लांट (एफडब्ल्यूपी) से झंडी दिखाकर रवाना की गई

इस्पात मंत्रालय के सचिव श्री संजय सिंह ने आज रायबरेली में आरआईएनएल के फोर्ज्ड व्हील प्लांट (एफडब्ल्यूपी) में आयोजित एक समारोह में भारतीय रेलवे को एलएचबी व्हील्स की पहली खेप को झंडी दिखाकर रवाना किया। इस अवसर पर आरआईएनएल के मुख्य प्रबंध निदेशक श्री अतुल भट्ट आरआईएनएल, इस्पात मंत्रालय की अपर सचिव सुश्री रुचिका चौधरी गोविल और कई अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

इससे पहले, श्री संजय सिंह ने आरआईएनएल के फोर्ज्ड व्हील प्लांट का निरीक्षण किया और अत्यंत आवश्यक एलएचबी पहियों के निर्माण में आरआईएनएल की सामूहिक, एकजुट और समर्पित प्रतिबद्धता पर प्रसन्नता व्यक्त की।

इस अवसर पर अपने संबोधन में, श्री संजय सिंह ने भारतीय रेलवे को एलएचबी पहियों की पहली खेप भेजे जाने पर प्रसन्नता व्यक्त की और इसे आरआईएनएल के इतिहास का एक महत्वपूर्ण अवसर बताया। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि एफडब्ल्यूपी आरआईएनएल के लिए गेम चेंजर साबित होगा। उन्होंने कहा कि यह आत्मनिर्भर भारत की ओर एक और कदम है। उन्होंने आरआईएनएल के फोर्ज्ड व्हील प्लांट के उच्च स्तरीय स्वचालन की भी प्रशंसा करते हुए लागत में कटौती के लिए नवीनतम तकनीकों का लाभ उठाने की सलाह दी। श्री सिंह ने आरआईएनएल सामूहिक को उद्योग 4.0 के लिए अपने कार्यों को संरेखित करने और आवश्यक प्रमाणन प्राप्त करने तथा जबरदस्त वृद्धि की दिशा में कार्य करने का आह्वान किया।

आरआईएनएल के अध्यक्ष एवं मुख्य प्रबंध निदेशक श्री अतुल भट्ट ने एलएचबी पहियों के पहले प्रेषण को एक प्रमुख उपलब्धि बताते हुए कहा कि आरआईएनएल का हर व्यक्ति आरआईएनएल को और अधिक ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए प्रतिबद्ध होने के साथ-साथ इसके लिए अथक प्रयास कर रहा है। उन्होंने केंद्रीय इस्पात मंत्री श्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया और इस्पात राज्य मंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते को उनकी निरंतर प्रेरणा और मार्गदर्शन के लिए धन्यवाद दिया, जिसने एफडब्ल्यूपी से आरआईएनएल द्वारा एलएचबी पहियों के विकास को सक्षम बनाया। उन्होंने एसएमएस जर्मनी, एनएसएच, एसएमएस इंडिया, आरडीएसओ (भारतीय रेलवे अनुसंधान डिजाइन और मानक संगठन), सलाहकार मेकॉन को एफडब्ल्यूपी से एलएचबी पहियों के उत्पादन की अनूठी उपलब्धि हासिल करने में उनके निरंतर समर्थन के लिए धन्यवाद दिया। श्री अतुल भट्ट ने इस बात पर जोर दिया कि संयंत्र में न केवल भारतीय रेलवे के लिए बल्कि विकसित देशों के रेलमार्गों की पसंद का आपूर्तिकर्ता बनने के लिए भी उच्च गुणवत्ता वाले पहियों का उत्पादन करने की क्षमता है।

इस अवसर पर को संबोधन करते हुए इस्पात मंत्रालय की अपर सचिव सुश्री रुचिका चौधरी गोविल ने इस शानदार उपलब्धि पर आरआईएनएल को बधाई दी और विश्वास व्यक्त किया कि आरआईएनएल भारतीय रेलवे की भविष्य की विविध जरूरतों को पूरा करने के लिए हमेशा तैयार है। उन्होंने कहा कि एलएचबी व्हील्स के उत्पादन के साथ आरआईएनएल निरंतर अपनी कार्यशैली में मजबूत होता गया है। आरआईएनएल ने अपनी ब्रांड छवि को स्टील उत्पादक से अंतरराष्ट्रीय मानकों के निर्माता के रूप में बदल दिया है। आरआईएनएल के एलएचबी पहियों के उत्पादन से न केवल आयात प्रतिस्थापन में मदद मिलेगी बल्कि निर्यात को बढ़ावा देने में भी मदद मिलेगी।

आरडीएसओ के ईडी श्री बी.एल.बैरवा ने एफडब्ल्यूपी में परिष्कृत संयंत्र की स्थापना के लिए आरआईएनएल के अथक प्रयासों की सराहना की और निरंतर समर्थन का आश्वासन दिया।

रायबरेली की मॉडर्न कोच फैक्ट्री के प्रधान मुख्य सामग्री प्रबंधक श्री एन डी राव, पीसीएमएम  ने आरआईएनएल को एलएचबी पहियों के पहले प्रेषण के लिए बधाई दी और यह भी विश्वास व्यक्त किया कि एफडब्ल्यूपी यूक्रेन आदि से पारंपरिक आपूर्तिकर्ताओं से बंद हुई फोर्ज्ड व्हील्ल की आपूर्ति को पूरा करने में सक्षम होगा।

इससे पहले, एफडब्ल्यूपी के एचओडी और मुख्य महाप्रबंधक डॉ वीआर बापा राव ने एफडब्ल्यूपी और इसकी उपलब्धियों का अवलोकन किया। एफडब्ल्यूपी के मुख्य महाप्रबंधक श्री के. श्रीनिवास ने धन्यवाद प्रस्ताव दिया।

Related posts

खनिज अन्वेषण के लिये 13 निजी एजेंसियों को मान्यता

UK 360 News

एनसीसी के महानिदेशक ने 28वें नेहरू अंडर-17 गर्ल्स हॉकी टूर्नामेंट में जीत पर गर्ल्स हॉकी टीम को सम्मानित किया

UK 360 News

लाइफ मिशन के तहत अग्नि तत्व अभियान का पहला सेमिनार लेह में आयोजित किया गया

UK 360 News
X
error: Alert: Content selection is disabled!!
Join WhatsApp group