प्रभारी मंत्री रावत ने आपदा के सम्बंद में ली बैठक, कई सवालों के जवाबों से पल्ला झाड़ा।

News Desk
5 Min Read

- Advertisement -
Ad imageAd image

अल्मोड़ा-मंत्री चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा, सहकारिता, उच्च शिक्षा, विद्यालयी शिक्षा एवं संस्कृत शिक्षा डॉ धन सिंह रावत ने मंगलवार को अल्मोड़ा पहुंचकर कलेक्ट्रेट सभागार में आपदा के संबंध में अधिकारियों के साथ बैठक कर लोगों को राहत दिलाने के लिए जरूरी दिशा निर्देश दिए। बैठक के दौरान मंत्री धन सिंह रावत ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि मानसून सीजन में विशेष सतर्कता बरतते हुए अवरुद्ध सड़कों को खोलने हेतु त्वरित कार्यवाही करना सुनिश्चित करें। इस दौरान मंत्री धन सिंह रावत ने निर्देश दिए कि राशन वितरण, विद्युत वितरण, स्वच्छ पेयजल आपूर्ति, गैस आपूर्ति बनाए रखें।

 इस दौरान पत्रकारों से मुखातिब होते हुए डॉ धन सिंह ने कहा कि तीन महीने का राशन हर गाँव में पहुंच गया है। पेय जल की किसी भी गाँव सभा में लाइन नहीं टूटी है। विद्युत विभाग में भी कोई परेशानी नहीं है और पीडब्ल्यूडी राष्ट्रीय राजमार्ग और अन्य को मिलाकर केवल 9 सड़कें बंद हैं, जिन्हें कल तक खोलने के निर्देश दिए गए हैं। सरकार ने अल्मोड़ा जनपद को 20 करोड़ रुपये आपदा के लिए दिए हैं। विभाग जल्दी से आकलन कर गांवों में गौशाला, गांव के रास्ते, गांव की परेशानी और स्कूलों के लिए इस पैसे का उपयोग करें, ताकि उसका पैसा उन्हें मिल सके। 

अल्मोड़ा जनपद में आपदा को ध्यान में रखकर काफी समस्याओं का सामना किया जा रहा है। हमारे अधिकांश मार्ग खुले हुए हैं। बरसात में पानी साफ रूप से घरों तक पहुंच सके, इसके लिए डीपीआर बनाने के निर्देश दिए गए हैं। आयुष्मान कार्ड और गोल्डन कार्ड में जनता को प्राइवेट अस्पतालों में सुविधा न मिलने के विषय में पूछे जाने पर, रावत ने बताया कि 1 अगस्त से 30 सितंबर तक हम 15 हजार गाँवों में स्वस्थ चौपाल लगाने जा रहे हैं। इसका नाम ‘आयुष्मान सभा’ रखा गया है, जिसमें हर व्यक्ति का आयुष्मान कार्ड बनाया जाएगा और गाँव में ही हर व्यक्ति की डिजिटल हेल्थ आईडी बनाई जाएगी। हर व्यक्ति का चैकअप किया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग जनता के द्वार दो महीने का एक बड़ा कार्यक्रम किया जाएगा।

 अब तक 55 लाख लोगों के कार्ड बनाए जा चुके हैं और साढ़े सात लाख लोगों का ईलाज कराया जा चुका है और अगर किसी को अभी भी परेशानी हो रही है तो उसको भी जल्द से जल्द पूरा किया जाएगा। आपदा के समय मरीज को 108 एम्बुलेंस से लाने का समय अल्मोड़ा जनपद के लिए 20 से 25 मिनट का कर दिया गया है। सब्जियों की कीमत को लेकर रावत ने कहा की अगर कोई आपदा में अगर मूल्य वृद्धि करता है तो उसके लिए भी कानून है और वह कृषि मंत्री से भी इस सम्बन्ध में वार्ता करेंगे। प्रभारी मंत्री से जिलाधिकारी के पास मूल्य नियंत्रण का कोई अधिकार है सवाल पूछे जाने पर प्रभारी मंत्री ने कहा कि जिलाधिकारी और सरकार मूल्यों में नियंत्रण कर सकते हैं। 

प्रभारी मंत्री से सरकारी अधिकारियों द्वारा टैक्सी वाहनों को प्राईवेट नंबर प्लेट लगाकर चलाने की बात पूछने पर प्रभारी मंत्री ने आरटीओ से बात करने की बात बोल कर अपना पल्ला झाड़ लिया। भाजपा कार्यालय अल्मोड़ा के पास के रास्ते के खराब हाल पर भी मंत्री जी ने जिलाध्यक्ष के ऊपर बात टाल कर अपनी बात ख़त्म कर दी। वहीं जनपद प्रभारी मंत्री डॉ धन सिंह रावत ने बेस अस्पताल अल्मोड़ा में 12.5328 करोड़ रुपए की लागत से स्थापित एमआरआई मशीन का लोकार्पण किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि अल्मोड़ा, बागेश्वर तथा पिथौरागढ़ के लोगों के लिए यह बहुत बड़ी सौगात है। उन्होंने कहा कि अब अल्मोड़ा, बागेश्वर तथा पिथौरागढ़ वासियों को एमआरआई के लिए हल्द्वानी नहीं जाना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि लोगों को बड़ी रकम खर्च करके हल्द्वानी या देहरादून एमआरआई के लिए जाना पड़ता था, अब यहीं पर एमआरआई की सुविधा होने से लोगों की समय तथा पैसों की भी बचत हो सकेगी। उन्होंने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के तहत आने वाले परिवारों के लिए यहां पर मुफ्त में एमआरआई की सुविधा दी जाएगी।

Share This Article
Leave a comment