हाईकोर्ट के सरकारी और वनभूमि से अतिक्रमण हटाए जाने के आदेश के बाद लोगों की बेचैनी बड़ी, डीएम से मिलने पहुंचे लोग

News Desk
2 Min Read

- Advertisement -
Ad imageAd image

उत्तराखंड हाईकोर्ट ने पूरे प्रदेश में राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों के किनारे स्थित सरकारी और वनभूमि से अतिक्रमण हटाए जाने के आदेश दिए हैं। न्यायालय ने सभी जिलाधिकारियों और प्रभागीय वन अधिकारियों को चार सप्ताह के भीतर आदेश के संबंध में अपनी अनुपालन रिपोर्ट दाखिल करने को कहा है..वहीं इस आदेश के बाद तमाम लोगों में इस बात का भय व्याप्त है कि वह अपने प्रतिष्ठान, भवन छोड़कर कहां जाएंगे।

यह भी पड़ें ….कपकोट से कांवड़ यात्रियों का दल गंगाजल लाने के लिए हुआ हरिद्वार रवाना

 शनिवार को डीएम कैंप कार्यालय में सलड़ी और ओखलकांडा के तमाम लोगों के साथ भीमताल विधायक राम सिंह कैड़ा डीएम से मिलने पहुंचे और अतिक्रमण के नाम पर लोगों के रोजगार,घरों और प्रतिष्ठानों को न तोड़े जाने की बात कही इसके अलावा क्षेत्र की अन्य समस्याओं से भी अवगत कराया।

वहीं लोगों का कहना है कि वे लोग 70 सालों से वन विभाग की जमीन पर अपनी रोजी रोटी चला रहे हैं और अब अचानक हाईकोर्ट के आदेश के बाद से उनकी नींदे उड़ी हुईं हैं। अब ऐसे में वह कहां जाएंगे या तो उन्हें अन्यत्र बयाया जाए बहरहाल अतिक्रमण के भय से लोगों के माथे पर चिंता कर लकीरें साफ नजर आ रहीं हैं और अब देखना होगा की प्रशासन का अगला कदम क्या होता है।

बाइट – राम सिंह कैड़ा, विधायक भीमताल

Share This Article
Leave a comment