कोटद्वार में नाबालिग वाहन चलाते मिले तो स्कूल व अभिभावकों की होगी जिम्मेदारी

2 Min Read

कोटद्वार क्षेत्र में नाबालिग वाहन चलाते हुए पकड़े गए तो स्कूल प्रशासन व अभिभावकों की जिम्मेदारी तय की जाएगी। इसके बाद भी सुधार नहीं हुआ तो कार्रवाई की जाएगी। नाबालिगों को यातायात के नियमों के प्रति जागरूक करने के लिए आगामी 1 से 15 मई तक जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। एएसपी कोटद्वार जया बलोनी ने कहा कि समस्त स्कूलों को यातायात के अनुपालन को लेकर नोटिस दिया गया है।रविवार को कोतवाली कोटद्वार में एएसपी जया बलोनी ने क्षेत्र के सभी विद्यालयों के प्रधानाचार्यों की बैठक ली। उन्होंने बताया कि आगामी 1 से 15 मई तक नाबालिगों के वाहन चलाए जाने को लेकर जागरूकता अभियान चलाया जाएगा।

- Advertisement -
Ad imageAd image

सभी स्कूलों और कोचिंग संस्थानों में भी जागरूकता को लेकर निर्देश दिए गए हैं। कहा कि प्रत्येक स्कूल में बोर्ड लगाया गया है। स्कूल स्तर पर स्वयंसेवक की तैनाती को लेकर भी सहमति बनी है। टीसीजी पब्लिक स्कूल सिमलचौड़ की प्रधानाचार्य नीना ने कहा कि स्कूल प्रशासन लगातार इस दिशा में कार्य कर रहा है। पुलिस प्रशासन से सहयोग मिलने पर इस दिशा में सजगता और बढ़ेगी। उन्होंने अभिभावकों से नाबालिगों को दोपहिया वाहन न देने की अपील की।

- Advertisement -
Ad imageAd image

आईएचएमएस के डाॅ. सुनील पंवार ने कहा कि नाबालिग हाईवे पर तेज रफ्तार से वाहन चला रहे हैं और इस पर नियंत्रण आवश्यक है। जीआईसी कुंभीचौड़ के उप प्रधानाचार्य नीरज कुमार कमल ने बताया कि क्षेत्र में यूपी से शरारती तत्व आकर बच्चों को नशे के दलदल में धकेल रहे हैं। इस दिशा में ठोस कदम उठाए जाएं। इस दौरान ई-रिक्शा के अनियोजित संचालन को लेकर भी शिक्षकों ने आक्रोश जताया। इस अवसर पर सीओ विभव सैनी, कोतवाल मणि भूषण श्रीवास्तव, एसएसआई जयपाल चौहान, आरएस गुसाईं, डॉ. अनुराग शर्मा, अशोक रावत, रमाकांत कुकरेती, नत्थी सिंह नेगी, वीके शर्मा आदि मौजूद रहे।

- Advertisement -
Share This Article
Leave a comment