अल्मोड़ा में आठ विद्यालयों में तीन कक्षाओं को पढ़ा रहा है एक शिक्षक

2 Min Read

अल्मोड़ा जिले में आठ जूनियर हाईस्कूल संचालित हो रहे हैं एकल शिक्षक के भरोसे सरकारी विद्यालयों में शिक्षा व्यवस्था की बेहतरी के दावे कर छात्र संख्या बढ़ाने के तमाम प्रयास किए जा रहे हैं, लेकिन ऐसा नहीं हो पा रहा है। शिक्षकों की कमी से विद्यार्थी सरकारी विद्यालयों से मुंह मोड़ने के लिए मजबूर हैं। जिले में एकल शिक्षकों के भरोसे संचालित आठ जूनियर हाईस्कूल इसका प्रमाण हैं। इन विद्यालयों में तीन कक्षाओं को पढ़ाने की जिम्मेदारी सिर्फ एक शिक्षक पर है।

- Advertisement -
Ad imageAd image

जिले में राजकीय जूनियर हाईस्कूल फणिया, तोल बुधानी, बिरकोला, मेलगांव, पीपलधार, विमांडेश्वर, चक्कर गांव, इनेला एकल शिक्षक के भरोसे संचालित हो रहे हैं। हर विद्यालय में छठी से लेकर आठवीं कक्षा तक 14 से 16 विद्यार्थी पढ़ रहे हैं। एक ही शिक्षक के लिए तीन अलग-अलग कक्षाओं के विद्यार्थियों को बेहतर ज्ञान देना कैसे संभव होगा, इसको पूरी तरह नजरअंदाज कर दिया गया है। नतीजतन इन विद्यालयों में छात्र संख्या लगातार कम हो रही है। पिछले शिक्षा सत्र तक इन विद्यालयों में छात्र संख्या 28 से 30 तक थी जो अब घटकर आधी रह गई है। शिक्षक न होने से अभिभावक और विद्यार्थी अन्य विद्यालयों का रुख करने के लिए मजबूर हैं। 

- Advertisement -
Ad imageAd image

शिक्षक के अवकाश पर जाने पर बिगड़ जाती है व्यवस्था
अल्मोड़ा। इन विद्यालयों में शिक्षक के अवकाश पर जाने पर शिक्षा व्यवस्था पटरी से उतर जाती है। शिक्षा विभाग अन्य शिक्षक की व्यवस्था करता है। कई बार शिक्षक की व्यवस्था न होने से विद्यालयों में ताले लटकाने पड़ते हैं। विकासखंड विद्यालय स्याल्दे 3,भैंसियाछाना 2,सल्ट 1,चौखुटिया 1,द्वाराहाट 1

- Advertisement -
Share This Article
Leave a comment