कब बदलेंगे हालात: गर्भवती को स्ट्रेचर पर 11 किमी लाए, अस्पताल पहुंचने से पहले गर्भस्थ शिशु की मौत

2 Min Read

लंबी दूरी तय कर गर्भवती को कपकोट सीएचसी लाया गया। जहां से गर्भवती को जिला अस्पताल रेफर कर दिया। तब तक गर्भस्थ शिशु की पेट में ही मौत हो गई थी। पहाड़ के लोगों की समस्याएं पहाड़ से भी बड़ी हैं। कपकोट के सोराग गांव के लिए सड़क तो बनी, लेकिन वाहन संचालन लायक नहीं है। इसी के चलते एक गर्भवती की जान पर बन आई। क्षेत्र के लोगों ने गर्भवती को करीब 11 किमी पैदल दूर तक स्ट्रेचर पर रखकर लाए और अस्पताल पहुंचाया लेकिन तब तक गर्भस्थ शिशु की मौत हो चुकी थी।

- Advertisement -
Ad imageAd image

सोराग निवासी प्रवीन सिंह की पत्नी रेखा देवी (28) को बृहस्पतिवार से प्रसव पीड़ा हो रही थी। तबीयत बिगड़ने पर गांव के लोगों ने शुक्रवार को स्ट्रेचर से गर्भवती को 11 किमी दूर उंगियां पहुंचाया। वहां से वाहन के जरिये कपकोट सीएचसी लाए। कपकोट सीएचसी से गर्भवती को जिला अस्पताल रेफर कर दिया। तब तक गर्भस्थ शिशु की पेट में ही मौत हो गई थी। गनीमत रही कि अस्पताल पहुंचने से प्रसूता की जान बच गई।

- Advertisement -
Ad imageAd image

सोराग के सामाजिक कार्यकर्ता दिनेश सोरागी ने बताया कि उंगियां से सोराग के लिए सड़क बनी हुई है लेकिन यातायात शुरू होने से पहले ही सड़क कई स्थानों पर क्षतिग्रस्त हो गई। सड़क का कोई लाभ गांव के लोगों को नहीं मिल पा रहा है। गर्भवती महिला को स्ट्रेचर से लाने वाले केशर सिंह, बचन सिंह, दयाल सिंह, खिलाफ सिंह, चामू सिंह का कहना है कि सड़क के निर्माण में गंभीर अनियमितता हुई है। गांव के लोगों को आए दिन इस तरह की समस्या का सामना करना पड़ता है। सड़क पर करोड़ों खर्च होने के बाद भी यातायात सुविधा का लाभ न मिलना गंभीर मामला तो है ही, जनता के साथ अन्याय भी है

- Advertisement -

- Advertisement -
Share This Article
Leave a comment