Almora news: महिला होमगार्ड की भर्ती में अभ्यर्थियों द्वारा लगाया गया अनियमित्ता करने का अरोप

3 Min Read
अल्मोड़ा। कुछ दिन पहले हुई महिला होमगार्ड की भर्ती में असफल हुए अभ्यर्थियों द्वारा भर्ती में अनियमित्ता करने का लगाया गया है महिला अभ्यर्थियों का कहना है कि उनके द्धारा भर्ती में लगाये गये खेल प्रमाण पत्रों को अमान्य बताकर उनका खेल प्रमाण पत्र के नंबर नहीं जोड़े गये जिस कारण वह मैरिट सूची से बहार हो गये। अभ्यर्थियों ने आरोप लगाया कि उनके द्वारा जिला स्तर और राज्य स्तर पर खेल महाकुंभ व अन्य खेलों में प्रतिभा करने के दौरान मिला प्रमाण पत्र होमगार्ड भर्ती में अमान्य बताकर नहीं लिया गया। जिससे यह साफ हो जाता है कि उनके साथ खेल विभाग व सरकार ने धोखा किया है महिला अभ्यर्थियों का कहना है कि खेल महाकुंभ में जिला स्तर और राज्य स्तर पर दिए गए प्रमाण पत्रों को अगर मान्यता नहीं दी जाती है तो उन्हें यह प्रमाण पत्र दिया ही क्यों गया उनके साथ ऐसा धोखा क्यों किया गया। अभ्यर्थियों ने अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि उनके साथ विभाग और सरकार ने धोखा किया है क्योंकि जो खेल प्रमाण पत्र उनको दिए गए हैं होमगार्ड विभाग द्वारा उनको अमान्य बताकर उनके नंबर नहीं दिए गए जिस कारण वह सफल नहीं हो पाए। इस मामले में जिला होमगार्ड कमांडेंट ने बताया कि महिला होमगार्ड भर्ती निष्पक्ष की गई है उसने किसी भी प्रकार की कोई अनियमित्ता व भेदभाव नही किया गया हैं और जहां तक प्रश्न है खेल प्रमाण पत्रों का उन्होंने बताया कि शासन द्धारा जारी नियमावली के अनुसार जो खेल प्रमाण जिला स्तर पर जिला कीड़ा अधिकारी और राज्य स्तर पर किसी पंजीकृत खेल समिति या खेल निदेशालय द्वारा दिया गया है वही प्रमाण पत्रों के नंबर भर्ती में जोड़े गये है। उन्होंने बताया कि भर्ती की विज्ञप्ति में जो जिओ संलग्न था उसे जिओ के अनुसार इस भर्ती में तीन स्तर पर नंबर दिए जाने का प्रावधान रखा गया था जिसमें जिला स्तर पर जिला कीड़ा अधिकारी और महाविद्यालय स्तर पर प्राचार्य और प्रधानाचार्य द्वारा द्वारा निर्गत प्रमाण पत्र में दो नंबर रखे गए थे, साथ ही मंडल स्तर पर मान्यता प्राप्त मंडल सपोर्ट एसोसिएसन और विश्वविद्यालय स्तर पर विश्वविद्यालय के क्रीड़ा अधिकारी क्रीड़ा संयोजक द्वारा जारी प्रमाण पत्र में तीन नंबर रखे गए थे। साथ ही राज्य स्तर पर मान्यता प्राप्त राज्य स्पोर्ट्स एसोसिएशन के द्वारा निर्गत प्रमाण पत्रों पर नंबर रखे गए हैं। जिनके आनुसार ही इस भर्ती में खेल प्रमाण पत्रों के नंबर जोड़े गये है। जो अभ्यार्थी उनके पास ​इस ​संबध में शिकायत लेके आये है उन्हें यह बता दिया गया है।

अल्मोड़ा। कुछ दिन पहले हुई महिला होमगार्ड की भर्ती में असफल हुए अभ्यर्थियों द्वारा भर्ती में अनियमित्ता करने का लगाया गया है महिला अभ्यर्थियों का कहना है कि उनके द्धारा भर्ती में लगाये गये खेल प्रमाण पत्रों को अमान्य बताकर उनका खेल प्रमाण पत्र के नंबर नहीं जोड़े गये जिस कारण वह मैरिट सूची से बहार हो गये।

- Advertisement -
Ad imageAd image

अभ्यर्थियों ने आरोप लगाया कि उनके द्वारा जिला स्तर और राज्य स्तर पर खेल महाकुंभ व अन्य खेलों में प्रतिभा करने के दौरान मिला प्रमाण पत्र होमगार्ड भर्ती में अमान्य बताकर नहीं लिया गया। जिससे यह साफ हो जाता है कि उनके साथ खेल विभाग व सरकार ने धोखा किया है महिला अभ्यर्थियों का कहना है कि खेल महाकुंभ में जिला स्तर और राज्य स्तर पर दिए गए प्रमाण पत्रों को अगर मान्यता नहीं दी जाती है तो उन्हें यह प्रमाण पत्र दिया ही क्यों गया उनके साथ ऐसा धोखा क्यों किया गया। अभ्यर्थियों ने अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि उनके साथ विभाग और सरकार ने धोखा किया है क्योंकि जो खेल प्रमाण पत्र उनको दिए गए हैं होमगार्ड विभाग द्वारा उनको अमान्य बताकर उनके नंबर नहीं दिए गए जिस कारण वह सफल नहीं हो पाए।

- Advertisement -
Ad imageAd image

इस मामले में जिला होमगार्ड कमांडेंट ने बताया कि महिला होमगार्ड भर्ती निष्पक्ष की गई है उसने किसी भी प्रकार की कोई अनियमित्ता व भेदभाव नही किया गया हैं और जहां तक प्रश्न है खेल प्रमाण पत्रों का उन्होंने बताया कि शासन द्धारा जारी नियमावली के अनुसार जो खेल प्रमाण जिला स्तर पर जिला कीड़ा अधिकारी और राज्य स्तर पर किसी पंजीकृत खेल समिति या खेल निदेशालय द्वारा दिया गया है वही प्रमाण पत्रों के नंबर भर्ती में जोड़े गये है।

- Advertisement -

उन्होंने बताया कि भर्ती की विज्ञप्ति में जो जिओ संलग्न था उसे जिओ के अनुसार इस भर्ती में तीन स्तर पर नंबर दिए जाने का प्रावधान रखा गया था जिसमें जिला स्तर पर जिला कीड़ा अधिकारी और महाविद्यालय स्तर पर प्राचार्य और प्रधानाचार्य द्वारा द्वारा निर्गत प्रमाण पत्र में दो नंबर रखे गए थे, साथ ही मंडल स्तर पर मान्यता प्राप्त मंडल सपोर्ट एसोसिएसन और विश्वविद्यालय स्तर पर विश्वविद्यालय के क्रीड़ा अधिकारी क्रीड़ा संयोजक द्वारा जारी प्रमाण पत्र में तीन नंबर रखे गए थे। साथ ही राज्य स्तर पर मान्यता प्राप्त राज्य स्पोर्ट्स एसोसिएशन के द्वारा निर्गत प्रमाण पत्रों पर नंबर रखे गए हैं। जिनके आनुसार ही इस भर्ती में खेल प्रमाण पत्रों के नंबर जोड़े गये है। जो अभ्यार्थी उनके पास ​इस ​संबध में शिकायत लेके आये है उन्हें यह बता दिया गया है।

- Advertisement -
Share This Article
Leave a comment